पंचायत के निर्माण कार्यों सचिव इंजीनियर कमीशन के खेल कर रहे लीपापोती

Mp24 news India 

मोहखेड/छिंदवाड़ा:- जनपद पंचायत कि मोहखेड के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत जाम में पदस्थ सचिव पन्नालाल गाडरे कि हठधर्मिता और पंचायतो में कार्य कि प्रति लापरवाही को लेकर जनप्रतिनिधियों में काफी नाराजगी आक्रोश है.ग्राम के जनप्रतिनिधियों ने मीडिया को बताया कि कहने के लिए शासन ने कार्यालय खुलने और बंद होने का समय 10:30 बजे से 4:30 बजे निर्धारित किया हुआ है.किंतु इस पंचायत में पदस्थ सचिव और रोजगार सहायक का आने-जाने एंव पंचायत खोलने का निश्चित समय सीमा नही है.जिसके चलते ग्राम के लोगो को अपने छोटे-बड़े कामकाजो को लेकर पंचायतों के चक्कर लगाना पड़ता है यहा तक कि फोन करने पर अधिकतर इनका फोन बंद बताया जाता है.दूसरे दिन जब मिल भी गये तो ग्रामीणो के पूछने पर अपना टालमटोली जवाब देते हुए कहते है कि जनपद में काम था जबकि साहब कही ओर घूमते या दुकानो में बैंठकर हसी गप्पे उड़ाते दिखाई देते है.इस तरह इन दोनो कि लापरवाही उदासीनता के चलते पंचायतो के कई कामकाज ठप्प बंद पड़े हुए है.ग्राम कि विभिन्न समस्याओं को लेकर कोई ध्यान नही दिया जाता है.यह दोनो सिर्फ़ अपने हि अंदाज में मशगूल रहते दिखाई देते जिससे ग्राम के जनप्रतिनिधि सहित ग्रामीण जनता बेहद परेशान है जिनके खिलाफ काफी आक्रोश भी है.

*सचिव-इंजीनियर में कमीशन के खेल में चढ़ कई निर्माण कार्य भ्रष्टाचार कि भेंट*

जाम पंचायत में शासन द्वारा स्वीकृत राशि से किए विभिन्न निर्माण कार्य में सचिव-इंजीनियर के कमीशन के खेल में निर्माण कार्य में शासन के निरधारित मापदंडो को एक तरफ रखकर अपने स्तर पर किए गए कई कार्य भ्रष्टाचार कि भेंट चढ़ चुके है.इस सच्चाई से जनपद पंचायत मोहखेड सीईओ,एसडीओ, पंचायत इंस्पेक्टर भी वाकिफ है.पूर्व में यह पर ठेकेदार द्वारा किए जा रहे चबुतरा में घटिया कार्य को लेकर जनप्रतिनिधियो ने इसको लेकर विरोध जताया था.जिसको लेकर जनपद के आलाधिकारी यहा पहुंचे और इस सच्चाई से वाकिफ होकर सचिल से तत्काल किए घटिया निर्माण को उखाडकर पून:कार्य करवाया गया था.इस तरह किए गए घटिया निर्माण कार्य को लेकर सचिव और इंजीनियर पर कोई कार्यवाही न होने से इनके हौंसले बुलंद हो गये.इसी हौंसले के बाद लगातार इस पंचायत में होने वाली सीसी सड़क भी एक सालो में भ्रष्टाचार कि भेंट, हाल हि में 2 माह में बनी पक्की नाली सहित पूर्व में किए गए अन्य कार्य निर्माण कार्य जो भ्रष्टाचार कि भेंट चढ़ चुके है.इस तरह सचिव-इंजीनियर के कमीशनखोरी के खेल में शासन कि राशि का दुरूपयोग कर घटिया निर्माण कार्य किया गया है.

*विधायक के कार्यक्रम में दिखाई लापरवाही*

गत दिनो जाम पंचायत में जनसंपर्क दौरान आये सौंसर विधायक विजय चौरे के कार्यक्रम में सचिव ने दिखाई लापरवाही. दरअसल विधायक विजय चौरे के जनसंपर्क कार्यक्रम ग्राम पंचायत जाम में 11 बजे स्कूल बिल्डिंग भूमिपूजन कार्यक्रम को लेकर एक दिन पूर्व जनपद पंचायत मोहखेड सीईओ शोमया जैंन ने पत्र जारी कर कार्यक्रम में उचित व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए थे.उसके बावजूद भी सचिव द्वारा कार्यक्रम को लेकर घोर लापरवाही एंव उदासीनता दिखाई दी.विधायक विजय चौरे का आगमन करीबन 12 बजकर 10 मिनट पर ग्राम में हुआ था.उनके निर्धारित समय से एक घंटे लेट पहुचने के बावजूद भी पंचायत में ताला लगा होने पर विधायक सहित जनप्रतिनिधियो ने नाराजगी व्यक्त की दरअसल सीईओ द्वारा एक दिन पूर्व जारी पत्र अनुसार 1 घंटे विधायक लेट पहुचने के बाद भी पंचायत में ताला बंद और सचिव नदारद दिखाई दिए.ग्राम में विधायक चौरे के आगमन के आधे घंटे बाद सचिव शिलान्यास पत्थर,लोहे कि एंगल,पुष्पहार लेकर पहुंचे.विधायक चौरे ग्राम के सभी वार्डो में आमजनताओ से जनसंपर्क कर मतदाताओं का आभार व्यक्त किया गया.उसके बाद वह आयोजित शासकीय हाईस्कूल में बिल्डिंग 2 अतिरिक्त कक्ष भवन भूमिपूजन कार्यक्रम में पहुंचे.जहा पर भी सचिव ने लाये गये लोहे कि.एंगल में शिलान्यास पत्थर को उसमे न लगाकर टेबिल पर जमा दिया गया.मोहखेड सीईओ द्वारा एक दिन पूर्व पत्र जारी करने के बावजूद भी सचिव ने विधायक के कार्यक्रम को लेकर अपनी जिम्मेदारी न समझकर लापरवाही दिखाई बरती गई.इसी बात से साफ जाहिर होता है कि जब यह सचिव अपने उच्च अधिकारी मोहखेड सीईओ के एक दिन पूर्व जारी पत्र कि अनदेखी एंव विधायक के कार्यक्रम में बरती गई लापरवाही से साफ तस्वीर झलकती है यह पंचायत के निर्माण कार्यों एंव आमजनताओ के कामो में अपनी मनमानी के साथ ग्राम के जनप्रतिनिधियों से किस तरह का व्यवहार करता होगा.यह इस विधायक कार्यक्रम में बरती गई लापरवाही से साफ दिखाई देता है.

*5 सालो से शोपीस बना ईकक्ष भवन चढ़ गया भ्रष्टाचार कि भेंट*

वर्ष 2013-14 में सचिव व इंजीनियर कि अनदेखी के चलते ग्राम पंचायत कार्यालय और बस्ती से 600 मीटर से अधिक लगभग दूरी पर शासन कि राशि निर्मित ईकक्ष भवन जो अब शोपीस बनकर सिमट गया.जिसका किसी प्रकार का कोई उपयोग नही किया जा रहा है.निर्माण वर्ष के बाद से आज तक इस भवन का ताला नही खोला गया.इस तरह ईकक्ष भवन निर्माण में शासन कि राशि खर्च दूरूपयोग किया गया.जो भवन अब शोपीस बनकर सिमट कर रह गया.

*इनका कहना*

*श्रीमती कीर्ति विजय गांवडे अध्यक्ष जनपद पंचायत मोहखेड*:-सचिव और इंजीनियर कि मिलीभगत से कई निर्माण कार्य भ्रष्टाचार कि भेंट चढ़ चुके है.इन घटिया निर्माण कार्य को पंचायत के चुने जनप्रतिनिधि और ग्रामीणो ने पूर्व में घटिया रंगमंच निर्माण कार्य को लेकर विरोध किया गया था.जनप्रतिनिधियों और ग्रामीणो के साथ मिलकर उस.कार्य को बंद करवाया था मोहखेड सीईओ सहित अन्य अधिकारी ने उसे उखाडकर पून:बनवाया गया था.यह सिर्फ रंगमंच की बात नही कई ऐसे निर्माण जो चंद महीने एंव सालभर में घटिया भ्रष्टाचार कि भेंट चढ़ चुके है.आगे उन्होंने कहा कि इस सच्चाई से वाकिफ होने के बावजूद भी मोहखेड सीईओ कोई कार्यवाही की जगह मौन चुप्पी साधे रहती है जिसके चलते सचिव-इंजीनियर अपनी मनमानी कर रहे है.

*मोनिका धुर्वे सरपंच ग्राम पंचायत जाम*:-सचिव की उदासीनता कार्यप्रणाली से मैं खूद परेशान हुं जो निर्माण कार्य एंव ग्राम कि समस्याओं को लेकर ध्यान नही देता है.गत दिनो विधायक कार्यक्रम को लेकर मुझे एक दिन पूर्व जानकारी मिलने के चलते मैने अपने स्वयं के पैसो से पुष्पहार,मिठाई,पानी की बाटल सहित अन्य चीज खरीदकर लायी गई थी.सचिव ने सिर्फ़ शिलान्यास पत्थर और लोहे कि एंगल लाया जबकि एक दिन पूर्व उसे सूचना के बावजूद भी सचिव को सारी व्यवस्था संभालना था.इस सचिव की लापरवाही व उदासीनता के चलते मुझे लोग कहते है.जैसेकि जनपद अध्यक्ष जी ने एक वर्ष पूर्व उमारियादलेल बस्ती के पेयजल संकट को लेकर प्रस्ताव मांगा था उसके बावजूद भी सचिव ने नही दिया.

आर के बघेल एई जनपद पंचायत मोहखेड:-पक्की नाली टुटने की बात तो मुझे जानकारी मिली की किसी फोरवीलर वाहन के आने-जाने में टूटी है.जो भी मेरे द्वारा उस कार्य जल्द निर्माण किए जाने की बात कही है.जहा तक सचिव कि लापरवाही कि तो आपकी बात सही है .विगत माह मेरे द्वारा निरिक्षण दौरे में पंचो मानदेय न डालने कि शिकायत बताई थी तब मैने फटकार लगाई और कहा कि आप इन लोगो के मानदेय डाले तब जाकर उसने मानदेय कि राशि डाली.इस सचिव कि लापरवाही से ग्राम के जनप्रतिनिधि सहित ग्रामीण परेशान है.

जिला ब्यूरो चीफ देवेंद्र वर्मा की रिपोर्ट