2 लाख 80 हजार मांग रही थी छपारा पुलिस, मृतक पिता का वीडियो हुआ वायरल

2 लाख 80 हजार मांग रही थी छपारा पुलिस मृतक पिता का वीडियो हुआ वायरल

पुलिस अभिरक्षा में मौत का मामला

अश्वनी मिश्रा की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

सिवनी/छपारा (मप्र) – पुलिस अभिरक्षा में अपनी ही बेटी की हत्या के संदेही पिता की मौत के मामले में अब एक नया मोड़ सामने आया है। दरअसल मृतक पिता का एक वीडियो अपनी मौत के पहले सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में मृतक सुरेश सनोडिया ने छपारा पुलिस के ऊपर कई सनसनीखेज आरोप लगाते हुए बताया है कि पुलिस के द्वारा उनसे 2 लाख 80 हजार रुपए मांगे जा रहे थे। इस वीडियो के सामने आने के बाद छपारा पुलिस की अभिरक्षा में मौत के मामले में कई सवालिया निशान खड़े होने लगे हैं।

उल्लेखनीय है कि 3 दिन पूर्व 19 और 20 जुलाई की दरमियानी रात को अपने ही बेटी की हत्या के मामले में संदेही पिता सुरेश सनोडिया की छपारा पुलिस की अभिरक्षा में मौत हो गई थी। इस मामले में छपारा पुलिस के द्वारा देर रात को पूछताछ के दौरान लाइट गोल हो जाने पर मृतक सुरेश सनोडिया के द्वारा थाने की छत से छलांग लगाकर भागने के चलते गिरकर मौत होना बताया था। जिसके बाद सिवनी एसपी कुमार प्रतीक ने छपारा थाने पहुंचकर घटनास्थल का निरीक्षण भी किया था और मामले की गंभीरता को देखते हुये तत्काल न्यायिक जांच के आदेश भी जारी कर दिये थे।

वीडियो में छपारा पुलिस पर कई सनसनीखेज आरोप

2 मिनट 44 सेकंड के वायरल हुये इस वीडियो में मृतक सुरेश सनोड़िया ने छपारा पुलिस पर कई सनसनीखेज आरोप लगाते हुए बताया कि पुलिस के द्वारा उनसे 2 लाख 80 हजार रुपए मांगे जा रहे हैं। इस वीडियो में 1 लाख ऊपर पहुंचाने के लिये और 1 लाख छपारा टीआई को देने के लिये तथा 50 हजार जांच टीम के लिये और बाकी 30 हजार रुपए थाने के स्टाफ को देने के लिए मांगे जाने का आरोप मृतक सुरेश सनोडिया ने लगाया है। इस वीडियो में मृतक के द्वारा यह बताया गया है कि छपारा थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक संजय ठाकुर के द्वारा उक्त राशि की डिमांड की गई है। बता दें कि प्रधान आरक्षक संजय ठाकुर मृतक सुरेश सनोडिया की बेटी पूनम सनोडिया के हत्याकांड में विवेचक भी है।

पुलिस महानिरीक्षक को आवेदन देने के 2 दिन बाद हुई थी पुलिस अभिरक्षा में मौत

मृतक सुरेश सनोडिया ने 17 जुलाई 2019 दिन बुधवार को पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर को एक आवेदन प्रस्तुत किया था जिसमें मृतक ने अपनी बेटी प्रियंका सनोडिया के हत्या के मामले में छपारा पुलिस के द्वारा नील सनोडिया और ईश्वर डहेरिया के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं करने तथा मृतिका के परिजनों के ऊपर ही बार-बार थाने बुलाकर बेवजह परेशान करने के साथ साथ मामले को रफा-दफा करने के लिये रकम मांगने की बात बताई थी। आवेदन प्रस्तुत करने के 2 दिन बाद 19 जुलाई की रात को मृतक सुरेश सनोडिया की पुलिस अभिरक्षा में मौत हो गई थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक का वायरल हुआ यह वीडियो 17 जुलाई का है जब मृतक पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर के पास अपना आवेदन प्रस्तुत करने गए थे। बरहाल इस वीडियो के सामने आने के बाद अपनी ही बेटी की हत्या की जांच की गुहार लगाने वाले पिता की छपारा पुलिस अभिरक्षा मे मौत के मामले में कई सवालिया निशान खड़े होने लगे हैं।